ऑक्सीजन प्लांट लगाने में लाएं तेजी -मुख्य सचिव

गोरखपुर मंडल
Share News

विष्णु कुमार सोनकर की रिपोर्ट

गोरखपुर।मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने प्रदेश के सभी मंडलायुक्तों और जिलाधिकारियों लखनऊ से वीडियो कांफ्रेंसिंग करते हुए मंडल आयुक्त सभागार में मंडलायुक्त रवि कुमार एनजी जिलाधिकारी के विजयेंद्र पांडियन सीडीओ इंद्रजीत सिंह अपर आयुक्त अजय कांत सैनी एडीएम वित्त राजेश कुमार सिंह सीएमओ डॉ सुधाकर पांडेय जिला कृषि अधिकारी अरविंद चौधरी सहित अन्य संबंधित अधिकारी गणों से कहा कि गेहूं क्रय केंद्रों पर किसानों के गेहूं को सत प्रतिशत खरीदा किया जाए ताकि बाद में किसान बेवजह परेशान ना हो साथ में ही मुख्य सचिव ने कहा कि बरसात का महीना शुरु हो गया है आश्रय स्थलों में रह रहे पशुओं को चारा की व्यवस्था पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध होनी चाहिए जिससे पशुओं को गौ सेवक सही समय पर चारा दे सके उसके बाद मुख्य सचिव आरके तिवारी ने कहा कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से सबक लेते हुए प्रदेश में 533 ऑक्सीजन प्लांट लगाने के लिए प्रस्तावित है जिसमें 102 ऑक्सीजन प्लांट लगा दिए गए हैं बाकी प्लांटों को लगाने के लिए संबंधित अधिकारी बराबर निगरानी करते हुए ऑक्सीजन प्लांट को लगाएं जिससे अगर कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर आती है तो किसी भी मरीज को ऑक्सीजन के लिए परेशान ना होना पड़े। इस लिए मेडिकल कालेजों और अस्पतालों में आक्सीजन प्लांट की स्थापना के काम में तेजी लाने का निर्देश दिया है। उन्होंने मंडलायुक्तों व जिलाधिकारियों को मंडल व जिला स्तर पर इस काम की लगातार निगरानी के लिए एक -एक नोडल अफसर नामित करने का निर्देश दिया है। नोडल अफसर मानीटरिंग के बाद अपनी दैनिक रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को दें। मुख्य सचिव सोमवार को मंडलायुक्तों और जिलाधिकारियों के साथ वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये जिलों में आक्सीजन संयंत्रों की स्थापना और अस्पतालों में वेंटीलेटर की क्रियाशीलता की समीक्षा कर रहे थे। मुख्य सचिव ने कहा कि ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना का कार्य तेजी से पूरा किया जाना चाहिए। ऑक्सीजन संयंत्रों के स्थापना कार्य की रोज मानीटरिंग की जाए। मंडलायुक्त और जिलाधिकारी खुद यह देखें की संयंत्र की स्थापना के लिए समय से टेंडर प्रक्रिया पूरी हो जाए और वर्क आर्डर समय से जारी कर दिए जाएं। उन्होंने जिलाधिकारियों से कहा कि सीएसआर फंड से आक्सीजन संयंत्रों की स्थापना के लिए वे कंपनियों से संपर्क, संवाद और समन्वय करें। इसके लिए अलग से नोडल अधिकारी नामित करें। डॉक्टरों व वैज्ञानिकों के बताएं अनुसार तीसरी लहर आती है तो उसके पहले मंडलायुक्त व जिलाधिकारी अपने-अपने मंडलों व जनपदों में ऑक्सीजन प्लांट लगाते हुए क्रियाशील करें।