मध्यप्रदेश पटवारी संघ ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर मुख्यमंत्री के नाम डिप्टी कलेक्टर को दिया ज्ञापन

अन्य समाचार
Share News

मध्यप्रदेश पटवारी संघ ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर मुख्यमंत्री के नाम डिप्टी कलेक्टर को दिया ज्ञापन
टीकमगढ़।
मध्यप्रदेश के पटवारी संवर्ग निरंतर किसानों व शासन के मध्य कड़ी के रूप में कार्य कर शासन की अधिकाँश योजनाओं का सफलतापूर्वक क्रियान्वयन कर रहा है की अल्प संसाधनों के बावजूद मध्यप्रदेश का पटवारी शासन व किसान हित के प्रति दृढ़संकल्पित होकर विभिन्न प्रकार के तकनीकी साफ्टवेयरों, मोबाइल ऐप, बेब पोर्टल टीएसएम मशीन तकनीकी उपकरणों आदि पर तकनीकी व विभागीय कार्यों का कुशल संपादन कर रहा है साथ ही शासन के 56 विभागों का कार्य कर रहा है जिससे कृषकों में शासन की उज्वल छवि निर्मित होकर उनका आर्थिक व सामाजिक सशक्तिकरण होने के साथ ही राजस्व विभाग म.प्र. शासन को भारत सरकार द्वारा निरंतर सम्मान प्राप्त हो रहा है। यह कि चौबीसों घंटे सातों दिवस निरंतर कार्यों के संपादन किये जाने के उपरान्त भी आज तक वर्षों से पटवारी संघ की न्यायोचित मांगे के सम्बन्ध में निरंतर ज्ञापन देने व अवगत कराने के उपरांत भी शासन द्वारा निराकरण नहीं किया गया है। शासन द्वारा विगत कई वर्षों से केवल आश्वासन ही दिया जाता रहा है किन्तु कोई मांग पूर्ण नहीं की गयी है। जिससे प्रदेश के पटवारियों में निराशा का भाव होकर मनोबल प्रभावित हो रहा है व आये दिन पटवारियों की मौते हो रही है। पटवारी संवर्ग की प्रमुख मांगे है कि पटवारियों का ग्रेड पे 2800 करते हुए समयमान वेतनमान विसंगति को दूर की जाये। गृह जिले में पदस्थापना किया जाये। नवीन पटवारियों की CPCT की अनिवार्यता सम्बन्धी नियम समाप्त कराये जाने की मांग की गई। वही मध्यप्रदेश पटवारी संघ ने चेतावनी देते हुए बताया कि 7 जुलाई सारा एप्प से लोगआउट होकर मोबाइल से अनस्टाल करना 7 जुलाई से 9 जुलाई तक काली पट्टी व काला मास्क लगाकर कार्य करेंगे। 12 जुलाई को भूअभिलेख को छोड़कर समस्त कार्यो का बहिस्कार करेंगे। 2 अगस्त से 4 अगस्त तक सामूहिक अवकाश तीन दिवस तक रहेगा। 3 अगस्त को रैली निकाल कर ज्ञापन दिया जाएगा। 5 अगस्त को समस्त पटवारी सारा वेब पोर्टल वेबजीआईएस सहित समस्त ऑनलाइन कार्यों का बहिष्कार किया जायेगा। 10 अगस्त को अनिश्चितकालीन कलमबंद हड़ताल करेंगे।