एंबुलेंस चालकों का चक्का जाम, मरीजों को करना पड़ा दिक्कतों का सामना

रायबरेली
Share News

रायबरेली। यूपी के रायबरेली के स्वास्थ्य विभाग में आज उस समय हड़कम्प मच गया जब मरीजो को लाने वाली एम्बुलेंसो का चक्का जाम कर एम्बुलेंस चालक धरने पर बैठ गए। जिले में 90 एम्बुलेंसों का चक्का जाम होने से स्वास्थ्य विभाग में अफरा तफरी मच गई। एम्बुलेंस चालको की मांग है कि उन्हें राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत नौकरी पर रखा जाए साथ ही उन्हें न्यूनतम वेतन दिया जाए। जब तक उनकी मांगे नही मानी जायेगी वो धरना जारी रखेंगे व एम्बुलेंसों का चक्का जाम रहेगा।

दरअसल सोमवार की सुबह शहर के गोरा बाज़ार में खाली पड़ी जमीन पर 90 एम्बुलेंस लाइन से खड़ी दिखी और वंहा पर एक सैकड़ा के करीब एम्बुलेंस चालक धरने पर बैठ गए। इन चालको की मांग है कि हम लंबे समय से सरकार से मांग कर रहे है कि हमे स्थायी नौकरी दी जाए अगर न हो सके तो एनएचएम के तहत ही संविदा पर रखा जाए। साथ ही कई सालों से नौकरी करने के बावजूद भी हमे हमारा न्यूनतम वेतन नही दिया जा रहा है जबकि हमसे कई तरह के कार्य लिए जा रहे है।

कोरोना महामारी के दौरान हमारे कई साथी संक्रमित हुए और उन्होंने अपनी जाने भी गंवाई लेकिन उन्हें अभी तक सरकार से किसी भी तरह की कोई मदद नही दी गई। इन मांगो के पूरा होने के बाद ही उन्होंने धरना समापत करने की बात कही। फिलहाल एम्बुलेंस का चक्का जाम होने से जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की सांस अटक गई है लेकिन खबर लिखे जाने तक कोई भी जिम्मेदार इन चालको की समस्याओं को सुनने के लिए नही पहुचा।