राष्ट्र का समग्र विकास ग्रामीण क्षेत्रों के जमीनी स्तर पर विकास के बिना संभव नहीं- गिरिराज सिंह

0
41
Advertisement

जम्मू कश्मीर गिरिराज सिंह ने कहा राष्ट्र का समग्र विकास ग्रामीण क्षेत्रों के जमीनी स्तर पर विकास के बिना संभव नहीं। ग्रामीण विकास एवं पंचायत राज मंत्री गिरीराज सिंह ने कहा कि राष्ट्र का सतत और समग्र विकास तभी संभव होगा, जब ग्रामीण क्षेत्र जमीनी स्तर पर विकास होगा और ग्रामीण अर्थव्यवस्था मजबूत होगी। इसलिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के लिए क्षेत्रीय व स्थानीय संस्थानों को पूरी तरह सशक्त बनाने में जुटी हुई है। उन्होंने यह विचार आज उत्तरी कश्मीर में सिंगपोरा, बारामुला में जम्मू कश्मीर ग्रामीण आजीविका मिशन-उम्मीद द्वारा आयोजित एक समारोह में व्यक्त किए। केंद्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायत राज मंत्री गिरीराज सिंह केंद्र सरकार द्वारा जम्मू कश्मीर में जनाकांक्षाओं का पता लगाने और केंद्र सरकार की जनकल्याण की योजनाओं के कार्यान्वयन क समीक्षा के लिए शुरू किए गए जनपहुंच कार्यक्रम के तहत बीते शुक्रवार से कश्मीर दौरे पर हैं। उनके अलावा आज केंद्रीय रेल राज्यमंत्री दर्शना जारदोश और केंद्रीय इस्पात और ग्रामीण विकास राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते भी कश्मीर में थे।केंद्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायत राज मंत्री गिरीराज सिंह ने महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री को उनकी जयंती पर श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए ग्राम स्वराज और ग्राम विकास के जरिए ग्रामीण भारत के विकास में उनके योगदान को सराहा। उन्होंने कहा कि सामाजिक-आर्थिक विकास में महिलाअोें की भूमिका महत्वपूर्ण है। जरूरत है, हम महिलाओं को पर्याप्त अवसर और मंच प्रदान करें,जहां वह अपनी प्रतिभा सिद्ध कर सकें। पंचायत राज संस्थानों को ग्रामीण विकास का असली एजेंट करार देते हुए उन्होंने कहा कि जिला विकास परिषदों और ब्लाक विकास परिषदों के सदस्यों व पंच सरपंचों को पूरी निष्ठा, ईमानदारी और पारदर्शिता के साथ अपनी जिम्मेदारियों का निर्वाह करना चाहिए। उन्होंने पंचायत राज संस्थानों व उनके सदस्यों को हर संभव मदद का यकीन दिलाते हुए कहा कि जम्मू कश्मीर पहला वह क्षेत्र है जहां संविधान के 73वें संशोधन को पूरी तरह कार्यान्वित किया गया है। गिरिराज सिंह ने विभिन्न स्वयं सहायता समूहाें के सदस्यों से भी बातचीत की और उन्हं यकीन दिलाया कि स्वयं सहायता समूहों के उत्पादों को एक बड़ा बाजार उपलब्ध कराने के लिए उन्हेें इंडिया एक्सपो के साथ भी जोड़ा जाएगा।
जोगिन्द्र सोहल पुलवामा कश्मीर

Advertisement