आखिर कब तक बेटियों को बेटी होने का खामियाज़ा भुगतना ?

अहमदाबाद की आयशा की खुदकुशी की खबर सिर्फ़ खबर नहीं है ये एक तमाचा है सभ्य कहे जाने वाले समाज के मुंह पर, ये एक तमाचा है उन लोगों के मुंह पर जो बोलते हैं लड़के और लड़की में कोई फ़र्क नहीं है,ये तमाचा है उन माँ बाप पर जो अपनी झूठी अान बान,शान को […]

Continue Reading