कांग्रेस के खेल प्रकोष्ठ प्रदेश सचिव शहीद ने निकाला छोटा और सुंदर ताजिया, सभी ने की तारीफ, मिला पुरस्कार

प्रमुख समाचार

कांग्रेस के खेल प्रकोष्ठ प्रदेश सचिव शहीद ने निकाला छोटा और सुंदर ताजिया, सभी ने की तारीफ, मिला पुरस्कार
शहर में छोटे और सुंदर ताजिए निकालने की नपाध्यक्ष मलिक ने की थी अपील
टीकमगढ़। नगर में मुहर्रम का मातमी त्यौहार परंपरागत तरीके से मनाया गया। अब तक शहर में बड़े ताजिए बनाए जाते रहे हैं। इस बार भी अनेक बढ़े ताजिए भी निकाले गए। लेकिन शहीद भाई ने आकर्षक और छोटा ताजिया बनवाकर शहर में एक नई मिशाल पेश की। उनकी इस पहल को लोगों के साथ ही अन्य लोगों ने भी मुक्त कंठ से सराहा। पूर्व मंत्री यादवेन्द्र सिंह एवं नगर पालिका अध्यक्ष अब्दुल गफ्फार पप्पू मलिक ने शहीद भाई द्वारा निकाले गए ताजिए की सराहना की और उनकी ताजिया कमेटी को पुरस्कृत किया। स्थानीय जेल रोड निवासी शहीद भाई द्वारा सुंदर और आकर्षक ताजिया बनवाया गया। यह ताजिया छोटा होने के बाद भी लोगों के बीच आकर्षक का केन्द्र रहा। इस अवसर पर पूर्व मंत्री यादवेन्द्र सिंह ने कहा कि शहीद भाई द्वारा बनवाया गया ताजिया सुंदर होने के साथ ही छोटा भी रहा, जिससे लोगों को भी परेशानी नहीं हुई। ताजिए की नक्काशी और कलाकारी देखते ही बन रही थी। पिछले साल लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा था, लेकिन इस बार नगर पालिका ने बेहतर इंतजाम किए। राजेन्द्र पार्क, गांधी चौराहा एवं महेन्द्र सागर तालाब पर नगर पालिका एवं पुलिस प्रशासन के साथ ही बिजली विभाग ने अपनी जिम्मेदारियों को बेहतर तरीके से निभाया, जिसके लिए वह धन्यवाद के पात्र हैं। नगर पालिका अध्यक्ष अब्दुल गफ्फार पप्पू मलिक ने भी शहीद भाई की सराहना की है। उन्होंने भविष्य में इसी प्रकार के छोटे ताजिए निकाले जाने की भी अपील की है, जिससे आम लोगों को बिजली संकट का सामना न करना पड़े और ताजियों के दौरान गलियों में अंधेरा भी न रहे। उन्होंने शहीद भाई एवं उनकी कमेटी को शील्ड आदि भेंटकर अपने प्रयासों की सराहना की। इस अवसर पर अनेक मुस्लिम भाईयों के अलावा अन्य नागरिक भी मौजूद रहे। शहर में सभी त्यौहार आपस में मिलजुलकर मनाए जाते रहे हैं। यहां के आपसी सद्भाव और भाईचारे की मिशाल अन्य प्रदेशों में तक दी जाती है। मुहर्रम के मौके पर भी हिन्दु एवं मुस्लिम भाईयों की मौजूदगी ने इस तहजीब को एक बार फिर यादगार बना दिया। शहीद भाई ने भी कहा कि उन्होंने ताजिए को सुंदरता प्रदान करने के साथ ही उसका आकार जनभावनाओं के अनुरूप देने का प्रयास किया। उनके कार्य को जिस तरह से सराहा गया है, उसके लिए वह सभी जनप्रतिनिधियों एवं आवाम का शुक्रिया अदा करते हैं।